Header Ads

रामगढ़ थाना की जिम्मेदारी सिर्फ तीन पुलिस अधिकारियों के सहारे

कैमूर टॉप न्यूज़,रामगढ़: कैमूर जिले का मशहूर रामगढ़ थाना में मात्र तीन पुलिस अधिकारियों के सहारे थाने का कार्य भार इन दिनों चला रहा है .आलम यह है कि कार्यवर्त इन दिनों तीन पुलिस अधिकारियों पर कार्य का बोझ कई गुना अधिक बढ़ गई है. ऐसे में कर्मी तनाव होकर कार्य करने को मजबूर हैं. अभी हाल फिलहाल में आई जी द्वारा पुलिस कर्मियों को जोन तबादला किए जाने से यह रामगढ़ कमी झेल रही है .लगभग एक लाख की जनसंख्या वाले इस रामगढ़ प्रखंड में अगर मात्र तीन पुलिसकर्मी होने की बात कह जाए तो बहुत दुख की बात है. रामगढ़ प्रखंड के क्षेत्रफल के मुताबिक अगर देखा जाए तो ऊंट के मुंह में जीरा का फोरन वाली बातें होगी .एक माह पहले मोहम्मद इरशाद को निलंबित के बाद उन्हें जगह पर प्रभात रंजन को इंचार्ज जिले का कप्तान द्वारा किया गया था. लगभग एक माह तक प्रभात रंजन को चार्ज में रहने के बाद पुनःउनका तबादला हो गया .वहीं थाने के मुंशी मनीष कुमार का भी तबादला हो गया. वही सिकंदर चौधरी का भी तबादला होने की बात कही जा रही है ,मगर फिर हाल में हुए स्थानीय थाने पर ही कार्य कर रहे हैं .अभी थाने में प्रभारी थाना अध्यक्ष के रूप में दीनदयाल पांडे, एसआई साधु शरण सिंह व एसआई प्रभात के कंधे पर ही कार्यभार की जिम्मेवारी है. इससे पहले थाने में सुजीत सीटों पर मुताबिक पुलिस अधिकारियों को होने से लोगों का दिल खुश हो जाता था .मगर आज इस थाने में पुलिस कर्मियों की कमी खलने लगी है .इस सौभाग्य कहूं या दुर्भाग्य कहें .इस पर आप खुद ही अनुमान लगा सकते हैं. कोई इस थाने में मुंशी जी की कमी कार्यरत पुलिस कार्यों की चलती रहती है. प्रभारी थाना अध्यक्ष दीनदयाल पांडे चौकीदार वशिष्ठ सहित अन्य एस आई द्वारा कार्य का बोझ बढ़ते ही मुंशी का कार्य करने में अंधा हो जाते हैं. ऐसे में उन एसआई को अपने अंदर के स्कोर देखने के बाद अन्य कार्य को भी देखना पड़ जाता है 10 पुलिसकर्मियों में पश्चात मात्र तीन पुलिसकर्मी उस कार्य को पूरा करने में प्रत्येक दिन पसीना बहा रहे हैं .वहीं गस्ती कार्यों में भी वैसे पुलिसकर्मी अपनी सहभागीता प्रकट करने में पीछे नहीं हटते .इस संबंध में प्रभारी थाना अध्यक्ष दीनदयाल पांडे ने बताया कि यहां पुलिस कर्मियों की कमी है .इसके बावजूद सभी तरह के कार्य को पूरा किया जा रहा है. 

 कैमूर टॉप न्यूज के लिए अभिषेक राज की रिपोर्ट




No comments