Header Ads

वीडियो: रामगढ़ में 12 घंटे बाद स्थिति आई नियंत्रण में, मामले को लेकर जारी है बैठक ..


देखें पूरी घटना का विडियो, समझिए क्यों हुआ है बवाल:
कैमूर टॉप न्यूज, रामगढ़: ट्रैक पर बीए की छात्रा का शव मिलने के बाद आक्रोशित लोगों का बवाल  तकरीबन 12 घण्टे बाद नियंत्रण में आया. सुबह से शुरू हुआ बवाल शाम तकरीबन 7 बजे तक अनवरत जारी रहा. स्थानीय लोगों ने सुबह जहां पुलिस के वाहन फूंक दिए थे वहीं थाने को भी आग के हवाले कर दिया था. यही नहीं मौके पर लोगों को समझाने बुझाने पहुंचे डीएसपी रघुनाथ सिंह को भी भीड़ के कोप का भाजन बनना पड़ा. भीड़ ने उन पर हमला कर दिया. हमले में वह बुरी तरह घायल हो गए., जिन्हें वाराणसी रेफर कर दिया गया था. पुलिसकर्मियों द्वारा किसी तरह उन्हें बचा कर ले जाया गया था. स्थानीय सूत्रों की मानें तो इस हमले में वह बुरी तरह घायल हो गए हैं. उनके कान से खून आ रहा है.


मौके पर पहुंचे वरीय अधिकारियों ने स्थिति को संभाला:

घटना के बाद बाजार सुनसान हो गए थे. लोगों ने घरों में खुद को कैद कर लिया था. खराब हालत को देखते हुए सीमावर्ती बक्सर तथा रोहतास औरा आरा से भी भारी संख्या में पुलिस बल रामगढ़ के लिए रवाना हो गए थे. तनावपूर्ण स्थिति में डीजीपी, डीएम तथा अन्य वरीय अधिकारियों ने मौके पर पहुँच कर स्थिति को नियंत्रण में लिया तथा लोगों को समझा-बुझाकर जाम को खत्म करवाया. मामले में डीआइजी ने बताया कि मामला शांत हो चुका है तथा मामले को लेकर वह बैठक कर रहे हैं. जिसके बाद वह अपनी आगे की रणनीति के बारे में बता पाएंगे.

क्या है मामला: 

अनुसूचित जाति की एक छात्रा जो कि बीए में पढ़ती थी उसका शव मोहनिया रेलवे ट्रैक पर मिला था. परिजनों का आरोप है कि उक्त युवती के साथ दुष्कर्म करने के बाद साक्ष्य छिपाने की नीयत से उसका शव ट्रैक पर फेंक दिया गया. वहीं जीआरपी तथा अन्य प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया था कि उक्त युवती ने ट्रेन के सामने कूदकर जान दे दी थी. मृतका के परिजन तथा कुछ अन्य स्थानीय लोग मामले की जांच कराने तथा आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर उपद्रव कर रहे थे.



No comments