Header Ads

Kaimur Top News: बच्चे का अपहरण कर माँगा पिता से 50 लाख रुपये फिरौती

कैमूर टॉप न्यूज,कैमूर: नगर के वार्ड 17 में रहने वाले एक अपहृत बच्चे के पिता से 50 लाख रुपये फिरौती मांगने व थाना क्षेत्र के सीवों गांव निवासी एक व्यक्ति की हत्या करने वाले अपराधी को गिरफ्तार करने में पुलिस को कामयाबी मिली है. पुलिस ने उक्त अपराधी के साथ घटना में इसका साथ देने वाले दो अन्य को भी गिरफ्तार किया है.

 गिरफ्तार अपराधियों में थाना क्षेत्र के सिकठी गांव निवासी सत्येंद्र सिंह के पुत्र बलदाऊ सिंह उर्फ छोटू, सिकठी गांव निवासी नचक यादव के पुत्र उमेश यादव व तीसरा लव कुमार दुबे पिता कलक्टर दुबे शामिल हैं. पुलिस घटना में उपयोग में लाया गया मोबाइल व सिम कार्ड के अलावा मारुति स्वीफ्ट कार यूपी 65 एबी 3609 भी बरामद किया है.

 यह जानकारी रविवार को सदर थाना में एसपी दिलनवाज अहमद ने प्रेस वार्ता के दौरान दी.उन्होंने बताया कि 18 जनवरी को सीवों गांव निवासी नथुनी सिंह के लापता होने की सूचना प्रेमा देवी पति नथुनी सिंह के आवेदन पर 20 जनवरी को भभुआ थाना कांड संख्या 38/18 धारा 363 भादवि के अंतर्गत दर्ज किया गया था. वहीं 12 फरवरी को शाम भभुआ के छड़ सीमेंट व्यवसायी संजय कुमार गुप्ता के 14 वर्षीय पुत्र शुभम कुमार के लापता होने की सूचना पर भभुआ थाना कांड संख्या 73/19 दिनांक 13 फरवरी को 363 भादवि के अंतर्गत दर्ज किया गया था.
16 को छोटू ने लापता पिता के यहां किया था फोन

दिनांक 16 फरवरी को लापता छात्र शुभम कुमार के पिता संजय कुमार गुप्ता के मोबाइल नंबर 8210760376 पर शाम में मोबाइल नंबर 7493043258 से फोन कर 50 लाख रुपये बलदाऊ सिंह उर्फ छोटू ने फिरौती मांगा. फिरौती की राशि मांगने पर संजय कुमार गुप्ता ने उससे अपने पुत्र से बात कराने के लिए कहा.

इस पर फिर कुछ देर बाद छोटू ने फोन कर 50 लाख रुपये लेकर इलाहाबाद आने की बात कही. इसके बाद उसने अपना मोबाइल स्वीच ऑफ कर लिया.


फिरौती मांगने के बाद छानबीन में कई मामले हुए उजागर 

फिरौती मांगने के बाद हरकत में आई पुलिस ने छानबीन शुरू की. जिसमें पाया गया कि उक्त मोबाइल नंबर बलि राम पिता विजयमल राम गांव कामता का है. जो दो माह पहले चोरी हो गया था.

उसी नंबर से 12 फरवरी को बलदाऊ सिंह उर्फ छोटू के द्वारा एसडीपीओ को फोन कर यह सूचना दी गई कि जल्दी ही हेरोइन की बड़ी डीलिंग की सूचना दी जाएगी. वैज्ञानिक अनुसंधान में पता चला कि उक्त मोबाइल को उमेश यादव पिता नचक यादव गांव सिकठी थाना भभुआ के द्वारा चोरी किया गया था. इस पर उमेश यादव को गिरफ्तार किया गया. 


इससे जब पुलिस ने सख्ती से पूछताछ किया तो उक्त मोबाइल सेट को अनिल पांडेय पिता सुदामा पांडेय ग्राम सिकठी को तीन सौ रुपये में बेचने एवं सिम कार्ड को अपराधी बलदाऊ सिंह उर्फ छोटू को बेचने की बात बताई.इस पर पुलिस ने छोटू को गिरफ्तार किया. छोटू से जब पुलिस ने पूछताछ की तो उसने 50 लाख रुपये फिरौती मांगने की बात को स्वीकार किया.

गला दबा कर नथुनी सिंह की कर दी थी हत्या

50 लाख रुपये फिरौती मांगने की बात को स्वीकारने के बाद अपराधी छोटू ने नथुनी सिंह की हत्या की भी बात स्वीकारी. एसपी ने बताया कि छोटू की बहन की शादी नथुनी सिंह के पुत्र के साथ हुई थी. नथुनी सिंह ने अपने पुत्र की हत्या कर दी थी. जिसमें नथुनी सिंह जेल भी गया था.जेल से छूटने के बाद छोटू की बहन अपने ससुर के दिए गए जमीन पर मकान बना कर रहती थी.जिस पर नथुनी सिंह की बुरी नजर थी.

इस वजह से छोटू ने नथुनी सिंह की हत्या गला दबा कर दी और शव को अपने मारुति से यूपी के रामनगर के पास गंगा नदी में फेंक दिया. घटना में उपयोग में लाई गई कार को पुलिस ने मुगलसराय स्टेशन से बरामद किया.

 नथुनी सिंह के दामाद को फंसाने की कर रहा था साजिश

गिरफ्तार छोटू नथुनी सिंह के दामाद सुनील सिंहको फंसाने की साजिश कर रहा था.चूंकि सुनील सिंहउसके केस में पैरवी कर रहा था.इसिलिए उसके घर में हथियार या हेरोइन रखने के लिए लव कुमार दुबे को तैयार किया.

12 फरवरी को सबसे पहले एसडीपीओ भभुआ के मोबाइल पर फोन कर सूचना दी कि हेरोइन की बड़ी डील होने वाली है. इसके बाद मोबाइल स्वीच आफ कर लिया. इसी बीच शुभम घर से लापता हो गया. तभी मौके का फायदा उठा कर उसके पिता से अपहरण के संबंध में जानकारी प्राप्त की और फिर अपने ड्राइवर के माध्यम से प्राप्त सिम कार्ड के जरिए 50 लाख की फिरौती की मांग की.लेकिन पूछताछ के क्रम में अपहरण से इंकार किया. सिर्फ रकम ठगने के लिए फिरौती की मांग बात बताई.

 लाइ डिटेक्टर टेस्ट कराएगी पुलिस

गिरफ्तार अपराधियों का लाइ डिटेक्टर टेस्ट पुलिस कराएगी. इसके अलावा लापता बच्चे के बारे में अन्य स्त्रोतों से भी अनुसंधान एवं जानकारी प्राप्त करने में पुलिस लगी है.

 घटना का उछ्वेदन करने वाली पुलिस टीम में एसडीपीओ अजय प्रसाद, पुलिस निरीक्षक सह थानाध्यक्ष भभुआ सत्येंद्र राम, पुअनि सह थानाध्यक्ष सोनहन बीरेंद्र सिंह, पुअनि भभुआ थाना राकेश कुमार रोशन, डीआईयू टीम संतोष वर्मा आदि शामिल थे.



No comments