Header Ads

Kaimur Top News: कैमूर में हुई एंबुलेंस सेवा ठप

कैमूर टॉप न्यूज़,कैमूर: कैमूर के विभिन्न प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों सहित जिला अस्पताल में संचालित 102 एंबुलेंस सेवा के कर्मी शुक्रवार से हड़ताल पर चले गए. इससे जिले में एंबुलेंस सेवा ठप हो गई. एंबुलेंस कर्मियों की हड़ताल से जिले के विभिन्न प्रखंडों की प्रसूता निजी वाहन से प्रसव के लिए अस्पताल आई.इससे इन्हें काफी परेशानी हुई। दरअसल जिले में 20 की संख्या में 102 एंबुलेंस है. इधर, एंबुलेंस कर्मियों ने बताया कि यह हड़ताल कर्मियों के विभिन्न मांगों के समर्थन में सात दिनों के लिए की गई है.बताया गया है कि 102 एंबुलेंस कर्मी संघ व इंटक के आह्वान पर कैमूर के एंबुलेंस कर्मियों ने विभिन्न प्रखंडों में संचालित एंबुलेंस को स्थानीय नगर परिषद के परिसर में खड़ा कर लिच्छवी भवन के सटे धरना पर बैठ गए.कर्मियों ने संबोधित करते हुए कहा कि 14-15 माह से आउटसोर्सिंग कंपनी 12 घंटे की ड्यूटी ले रही है.जबकि भुगतान 8 घंटे का ही कर रही है. कर्मियों को अभी तक कोई नियुक्ति पत्र भी नहीं दी गई है.श्रम कानूनों को भी दरकिनार की जा रही है। नवंबर 2018 से अभी तक का मानदेय भी नहीं दिया गया है.

पीएचसी सहित जिला अस्पताल में संचालित 102 एंबुलेंस सेवा को कर्मियों ने किया ठप 

एंबुलेंस कर्मियों की हड़ताल के बाद परिसर में लगा वैन.

एजेंसी ने कर्मियों के वेतन भी नहीं दिए 

एंबुलेंस कर्मी संघ के जिलाध्यक्ष ऋषिमुनी राम सहित कई अन्य ने कहा कि इसी तरह स्वास्थ्य महकमें ने पूर्व में आउटसोर्सिंग के जरिए एंबुलेंस का संचालन कराया. एजेंसी ने कर्मियों के वेतन भी नहीं दिए.एंबुलेंस का संचालन जिला स्वास्थ्य समिति से लगभग तीन सालों तक होता रहा.

अतिरिक्त सेवा के बदले पारिश्रमिक मिले 

अतिरिक्त सेवा के बदले पारिश्रमिक दिलाते हुए एंबुलेंस का संचालन जिला स्वास्थ्य समिति से कराई जाए.एंबुलेंस कर्मियों को सरकारी कर्मी की भी मान्यता दी जाए. बताया कि कैमूर में कुल 20 एंबुलेंस संचालित है. धरना प्रदर्शन कर रहे कर्मियों में कन्हैया तिवारी, संतोष कुमार, ब्रजेश सिंह, हरेंद्र कुमार, कमल किशोर, सोनू कुमार, मुन्ना कुमार अन्य लोगों रहे.



No comments