Header Ads

Kaimur Top News: महाशिवरात्रि के मौके पर बैजनाथ धाम पर उमड़े भक्त

कैमूर टॉप न्यूज़,कैमूर: प्रखंड के मसाढ़ी पंचायत में स्थित बैजनाथ धाम महाशिवरात्रि के मौके पर भक्तों के आवाजाही से गुलजार हो उठा.सोमवार को इस बार महाशिवरात्रि पड़ने से इस पर्व की महता बढ़ गई थी.
 बैजनाथ धाम के शिवलिग पर जलाभिषेक करने के लिए सुबह चार बजे से कांवरियों के आने का सिलसिला शुरू हो गया था. पुरूष सदस्यों से कम महिलाएं भी नहीं रही. यह विहंगम ²श्य देखते ही बन रहा था. दोपहर बाद तक बैजनाथ धाम में 25 हजार से अधिक शिव भक्तों ने जलाभिषेक कर लिया था. तत्पश्चात महिलाओं की पूजा अर्चना करने का सिलसिला जो शुरू हुआ वह दोपहर बाद तक चलता रहा.विल्व पत्र, आम का बौर, बैर, भांग, हरा चना, ईख, धतूरा, आदि नैवेद्य के साथ विधि विधान से शिव की पूजा की गई. जगह जगह ढोल नगाड़े भी बजते रहे
तत्पश्चात कर्मकांडी विद्वानों द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार के साथ बैजनाथ धाम में रुद्राभिषेक एक क्विंटल गाय के दूध से कराया गया. तंत्र साधना के लिए अद्वितीय इस बैजनाथ धाम में लोग पहुंचकर मंत्र की सिद्धि भी करते देखे गए.इस दौरान हर-हर महादेव के जयघोष से पूरा बैजनाथ धाम गुंजयमान हो उठा. मंदिर परिसर में नर नारियों का हुजूम उमड़ पड़ा था.हवन इसके पहले 24 घंटे का अखंड कीर्तन भजनों हवन के साथ संपन्न हुआ. देवहलियां व रत्नपुरी धाम बंदीपुर में मेले का भी आयोजन किया गया था.
जहां इलाके के लोग कुदरा दुर्गावती नदी तट के संगम पर स्नान कर रत्नपुरी धाम में शिवालय में पूजा अर्चना किए. उसके बाद मेले का लुत्फ उठाया.इसी प्रक्रिया दुर्गा मंदिर व बुढ़वा शिवमंदिर रामगढ़ में भी भक्तों का पूजा अर्चना करने के लिए तांता लगा हुआ था. महाशिवरात्रि का पर्व सोमवार को होने के कारण प्राय: सभी जगहों पर रूद्राभिषेक होता रहा. बाजार में ईख, कंचरी, धतूरा, बैर आदि की बिक्री भी बढ़ गई थी.

धाम के सचिव देवमुनि सिंह, प्यारे बिद ने बताया कि प्रशासनिक सहयोग इस दिशा में नहीं मिलने से भक्तों में निराशा का भाव देखा गया.फिर भी स्वयं सेवी लोगों द्वारा व्यवस्था में कोई कोर कसर नहीं छोड़ा गया था. बैजनाथ धाम के मुख्य पुजारी मनोज मिश्रा ने बताया कि इस बार 25 हजार से अधिक श्रद्धालुओं द्वारा जलाभिषेक करने का अनुमान लगाया जा रहा है. सभी भक्तों के बीच प्रसाद का भी वितरण किया गया.




No comments