Header Ads

Kaimur Top News: इस वर्ष 1.10 लाख हेक्टेयर में होगी धान की खेती ..



कैमूर टॉप न्यूज़,कैमूर:  धान के कटोरे के रूप में विख्यात कैमूर में इस साल 1.10 लाख हेक्टेयर में धान की खेती का लक्ष्य रखा गया है.हालांकि बीते कई वर्षों से लक्ष्य बढ़ाया नहीं गया है. रोहिणी नक्षत्र चढ़ने के बाद कई इलाकों में किसानों ने बिचड़ा डालना शुरू कर दिया है. वित्तीय वर्ष 2019-20 में खरीफ उत्पादन को लेकर कृषि विभाग ने अपना लक्ष्य निर्धारित कर लिया है.छह बिंदुओं पर तैयार खाका में सीएफएमएस और डीबीटी के माध्यम से किसानों के बीच अनुदान का वितरण, बीज वितरण, जैविक खेती का अभिकरण एवं प्रमाणीकरण, किसानों की आमदनी दोगुनी करने का सुझाव और उपाय, पैडी ट्रांसप्लांटर से धान की रोपनी तथा श्री विधि से धान की खेती को शामिल किया गया है. विभाग की मानें तो इन छह बिंदुओं पर केंद्रित होकर अगर धान की खेती कराई जाए तो जिले में सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्य को पूरा किया जा सकता है.खरीफ की खेती को लेकर प्रखंड और पंचायत स्तर पर किसानों के लिए प्रशिक्षण कार्यशाला का भी आयोजन किया जा रहा है.बीज वितरण बिहार राज्य बीज निगम से आपूर्ति होने के बाद किया जाएगा.



लापरवाही करने पर होगी कार्रवाई:


प्रशिक्षण कार्यक्रम के अलावे बीज वितरण में लापरवाही बरतने पर कृषि समन्वयक सहित अन्य विभागीय अफसरों और कर्मियों पर कार्रवाई होगी.






जिला कृषि पदाधिकारी ललिता प्रसाद ने बताया कि जिले में किसी भी हालत में सरकार द्वारा निर्धारित लक्ष्य को पूरा किया जाएगा.किसानों के प्रशिक्षण के लिए डेट निर्धारित की जा चुकी है.सरकार से संचालित सभी योजनाओं का लाभ किसानों को दिया जाएगा. प्रखंड कृषि पदाधिकारियों को योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए विशेष रूप से निर्देशित किया गया है.


जल स्तर नीचे जाने से किसान चिंतित:



रोहिणी नक्षत्र चढ़ने के साथ किसानों ने खेतों में बिचड़ा डालना शुरू कर दिया है.खेतों की सिंचाई के लिए किसान डीजल पंप और पंप सेट का सहारा ले रहे हैं.कई इलाकों में जल स्तर नीचे जाने से किसानों को काफी समस्या झेलनी पड़ रही है.सरकारी नलकूपों की स्थिति भी बेहतर नहीं कही जा सकती है. नलकूप मरम्मत के अभाव में बंद पड़े हुए हैं. किसानो का कहना है कि सरकार की ओर से घोषणाएं तो बहुत की जाती है. मगर उसका लाभ समय से नहीं मिल पाता है.सिंचाई की समस्या बरकरार है. बिजली कटौती से भी परेशानी है.



No comments