Header Ads

Kaimur Top News: दिनचर्या में लापरवाही दे सकती है हाइपरटेंशन को न्योता....




- इस वर्ष की थीम होगी “नो योरनम्बर्स’’
- विश्व हाइपरटेंशन दिवस पर बिशेष लेख

कैमूर टॉप न्यूज, कैमुर: तेजी से बदलते जीवनशैली से हाइपरटेंशन से ग्रसित होने वाले लोगों में तेजी से इजाफ़ा हुआ है. हाइपरटेंशन यानि उच्च रक्तचाप से बचाव के लिए प्रत्येक वर्ष 17 मई को विश्व हाइपरटेंशन दिवस मनाया जाता है.  

क्या है हाइपरटेंशन :

 इसे सामान्य भाषा में उच्च रक्तचाप भी कहा जाता है. यह दो प्रकार का होता है.पहला एस्सेनशिअल हाइपरटेंशन जो मूलत: अनुवांशिक, अधिक उम्र होने पर, अत्यधिक नमक का सेवन तथा लचर एवं लापरवाह जीवनशैली के कारण होता है. दूसरा सेकेंडरी हाइपरटेंशन जो उच्च रक्तचाप का सीधा कारण चिन्हित हो जाये उस स्तिथि को सेकेंडरी हाइपरटेंशन कहते हैं. यह गुर्दा रोग के मरीजों तथा गर्भ निरोधक गोलियों का सेवन करने वाली महिलाओं में अधिक देखा जाता है.


यह लक्षण  दिखाई दे तो हो जाएं सावधान :


हाइपरटेंशन को शुरूआती लक्षणों से जाना जा सकता है एवं इससे बचा भी जा सकता है. 
सर में अत्यधिक दर्द रहना.
लगातार थकावट का अहसास
सीने में दर्द होना.
सांस लेने में कठिनाई.
दृष्टि में धुंधलापन
पेशाब में खून आना
गर्दन,सीने व बांहों में दर्द का लगातार बने रहना

जिले की सिविल सर्जन डा.अरुण कुमार तिवारी ने बताया कि ख़राब जीवनशैली के कारण धीरे-धीरे किशोर एवं युवक भी इस गंभीर समस्या से पीड़ित हो रहे हैं. इसलिए बिगडती जीवनशैली को ठीक करना बहुत जरुरी है. आहार में फ़ास्टफ़ूड की जगह फलों का सेवन, सुबह जल्दी उठना एवं रात में जल्दी सोना, अवसाद एवं तनाव से बचना एवं नियमित व्यायाम से इस रोग से बचा जा सकता है. अधिकतर हाइपरटेंशन के रोगियों को मालूम भी नहीं रहता की वह इससे ग्रसित हैं तथा इसके लक्षणों को नजरंदाज करते हैं. इसे अनदेखा करने वाले मरीजों को गंभीर बीमारियों जैसे हृदयघात, मस्तिष्कघात, लकवा, ह्रदयरोग,किडनी का काम करना बंद हो जाना जैसी स्थिति का सामना करना पड़ता है.

यह हैं कारण: 

तनावग्रस्त जीवनशैली हाइपरटेंशन के प्रमुख कारणों में से एक है.इसके अलावा धूम्रपान करना, मोटापा, अत्यधिक शराब का सेवन, अच्छी नींद का ना लेना, चिंता, अवसाद, भोजन में नमक का अधिक प्रयोग, गंभीर गुर्दा रोग, परिवार में उच्च रक्तचाप का इतिहास एवं  थाईराइड की समस्याहाइपरटेंशन का कारण हो सकता है.

क्या कहते हैं आँकड़ें : राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण – 4के अनुसार जिले में  0.6 प्रतिशत पुरुष सामान्य हाइपरटेंशन से पीड़ित हैं. जिले की 0.2 फीसदी महिलाएं गंभीर हाइपरटेंशन से एवं 0.8 प्रतिशत महिलाएं सामान्य हाइपरटेंशन से पीड़ित हैं.

- मुबारक अली



No comments