Header Ads

प्रेम में पागल युवक ने रच दी खुद के अपहरण की झूठी साजिश, लड़की पक्ष वालों पर लगा अपहरण का बेबुनियाद आरोप...


कैमूर टॉप न्यूज़,भभुआ : कैमूर में प्रेम में पागल एक प्रेमी ने एक माह के अंतराल में अपनी ही प्रेमिका का 2 बार अपहरण कर खुद का अपहरण होने की साज़िश रच डाली. उक्त मामला सुनने मे भले ही फिल्मी लगे. लेकिन ज़मीनी  हक़ीक़त है. ज़िले के चैनपुर थाना क्षेत्र निवासी  लड़के ने  बिल्कुल फिल्मी तर्ज़ पर खुद की ही कहानी बना डाली. हालांकि अपने अपहरण का ढोंग रचने वाला लड़का पुलिस कस्टडी में जेल के भीतर है. जहां एक प्रेमी ने अपनी प्रेमिका को दुबारा उसके घर से भगाया और फिर अपहरण का नाटक रचा परिजनों से फिरौती की भी मांग कर दी. वहीं इस मामले को लेकर दोनों परिवार वाले एक- दूसरे से भीड़ गए  और  एक दूसरे पर अपहरण का आरोप लगाया है. इस मामले को लेकर पुलिस ने तहकीकात शुरू कर दी है.

यह मामला चैनपुर के महुला परसीया का है. बताया जा रहा है कि जब प्रेमी पहली बार लड़की को लेकर फरार हुआ था तो प्रेमिका के घर वालों ने लड़के के घर के कई लोगों पर अपहरण का मामला दर्ज कराया था. जिसके बाद घर वालों के दबाव और पुलिस की तफ्तीश बढ़ने पर दोनों प्रेमी युगल घर वापस आ गए थे. अभी दोनों को घर वापस आए एक महीने भी नहीं हुआ था कि लड़का एक बार फिर से प्रेेमिका को लेकर फरार हो गया और इस बार उसने अपने घर पर फोन कर अपने अपहरण की फिरौती के रूप में डेढ़ लाख रुपए की मांग कर दी. इसके बार अब लड़के के घर वालों ने लड़की के घर वालों पर अपने बेटे का अपहरण करने का केस दर्ज कराया है.बताया जा रहा है कि लड़के ने अपने घर पर फोन कर कहा है कि जल्द रुपए भेज दो, नहीं तो हमें जान से मार दिया जाएगा. परिजनों ने इस फोन कॉल के आधार पर लड़की पक्ष के खिलाफ अपहरण का मामला दर्ज कराया. इस मामले में जब पुलिस ने तफ्तीश शुरू की तो पता चला कि अपहरण का मामला झूठा है. साथ ही जांच में पता चला कि प्रेमी अपनी प्रेमिका के साथ गुजरात में रह रहा है और घर का खर्च चलाने के लिए अपने परिवार से अपहरण के नाम पर पैसा मांग था. मामले की जांच के बाद बिहार पुलिस दोनों की तलाश में गुजरात  पहुंच गई. परन्तु  प्रेमी युगल पुलिस के हाथ नहीं लगे. इसके बाद  प्रशासन ने वैज्ञानिक अनुसंधान से पता लगाकर  आरोपी प्रेमी अशोक बिंद पुलिस को हिरासत में ले लिया. इस दौरान भी आरोपी प्रेमी ने झूठी कहानी गढ़ी और बोला कि अपहरणकर्ता के चंगुल से किसी तरह भाग कर यहां आया हूं.



No comments