Header Ads

बड़ी खबर: मानकों की अनदेखी कर चल रहे निजी स्कूलों पर होगी कार्रवाई ..


कैमूर टॉप न्यूज़, कैमूर: जिले में अब बिना निबंधन के निजी स्कूलों का संचालन करना संचालकों के लिए महंगा पड़ेगा. अभिभावकों द्वारा लगातार मनमाना फीस वसूलने के चलते अभिभावक पूरी तरह त्रस्त हैं. बिना निबंधन के धड़ल्ले से शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में संचालकों द्वारा मानक की अनदेखी कर स्कूलों का संचालन किया जा रहा है. शिक्षा विभाग से मिली जानकारी के अनुसार शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव आरके महाजन द्वारा डीईओ को पत्र भेज कर अवैध रूप से संचालित निजी स्कूलों की सूची तैयार कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है. सचिव ने अपने पत्र में कहा है कि सभी गैर निबंधित स्कूलों पर हर हाल में कार्रवाई होनी चाहिए. इस संबंध में पूछे जाने पर जिला शिक्षा पदाधिकारी सूर्यनारायण ने बताया कि सचिव द्वारा कार्रवाई करने का आदेश दिया गया है. इसके अलावा कई लोगों द्वारा शिकायत मिल रही है कि निजी स्कूलों का संचालन गैर निबंधित तरीके से किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि इस तरह की मिल रही शिकायतों को लेकर प्रखंड शिक्षा पदाधिकारियों से निजी विद्यालयों का सर्वे कर गैर पंजीकृत स्कूलों की सूची मांगी गई है. बता दें कि शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में अवैध रूप से संचालित प्राइवेट स्कूलों में किताब, कॉपी, ड्रेस, वाहन, के नाम पर मनमानी फीस वसूली जा रही है. जिसकी कई बार विभागीय पदाधिकारियों के अलावा डीएम तक शिकायत की गई है. बावजूद इसके निजी स्कूलों में इस दिशा में कोई सकारात्मक पहल होती नहीं दिख रही है. जिससे अभिभावक बच्चों को पढ़ाने के लिए मनमाना फीस देने को विवश हैं. इतना ही नहीं कई अभिभावकों ने बताया कि जिला मुख्यालय सहित ग्रामीण क्षेत्रों में अंग्रेजी माध्यम के नाम पर दिल्ली बोर्ड व अन्य बोर्डों के नाम पर भी मनमानी वसूली की जाती है. जबकि उपरोक्त विद्यालय दूसरे विद्यालयों से छात्रों का नामांकन करा कर उनको दसवीं व 12 वीं की परीक्षा में शामिल कराते हैं. इसकी जानकारी परीक्षा के दौरान ही अभिभावकों को दी जाती है. इसके नाम पर स्कूल संचालकों से अच्छी रकम ली जाती है. सूत्रों की माने तो जिले में लगभग सौ से अधिक की संख्या में गैर पंजीकृत स्कूल संचालित हो रहे हैं.
- रोहित ओझा


No comments