Header Ads

नरक बना रामगढ़ नगर, प्रशासन मौन ..

जलजमाव का नज़ारा

कैमूर टॉप न्यूज़, रामगढ़: जिले का रामगढ़ नगर इन दिनो नरक बन गया है. इस पर प्रशासनिक उदासीनता लोगों को आश्चर्य में डाल रही है. स्थानीय बाजार के दोनों किनारे जल निकासी के लिए बने नाले की सफाई की योजना अधर में लटक गई है. एक सप्ताह पूर्व से इस नाला की सफाई के लिए विभाग द्वारा निर्देशित किया गया है. लेकिन इस दिशा में अब तक कार्य नहीं होने से ग्रामीण जनता के अलावा व्यवसायियों में आक्रोश व्याप्त है. गनीमत कहिए दस दिन से रामगढ़ में बारिश नहीं हो रही है. अन्यथा नाला जाम की वजह से बारिश के पानी में दुकान तैरती नजर आती. पहली बारिश में इस तरह की स्थिति बन गई थी. कई दुकानों में गंदा नाला का पानी ओवरफ्लो होकर प्रवेश कर गया था. पूरी रात दुकानदारों को जगकर किसी तरह पानी निकाल अपने सामान को सुरक्षित रखना पड़ा था. तब व्यवसायियों के द्वारा विधायक अशोक कुमार सिंह से इसकी शिकायत की गई थी. उन्होंने पीडब्ल्यूडी के कार्यपालक अभियंता को इस दिशा में अविलंब कार्रवाई करने की बात कही थी. कार्यपालक अभियंता द्वारा स्थानीय संवेदक विनोद सिंह को रामगढ़ बाजार के नाला की सफाई करने का निर्देश दिया गया था. उधर, बगैर कोई टेंडर के नाला सफाई का कार्य करने के लिए संवेदक को निर्देशित करना लोगों को समझ में नहीं आ रहा है. नाला सफाई नहीं होने से गंदा नाला का पानी पूरे बाजार की सड़क पर पसर रहा है. दुकानदार लल्लू सिंह, पवन गुप्ता, विनोद चौरसिया, राकेश चौरसिया, विध्याचल प्रसाद, जउवाद खां, रामयश कुशवाहा आदि लोगों ने कहा कि बारिश अगर हो गई तो हम सभी दुकानदारों का काफी नुकसान होगा. वहीं पंजाब नेशनल बैंक के समीप तो और नारकीय स्थिति गंदा पानी के जमा होने के कारण हो गई है. आम आदमी की बात कौन करे बैंक के कर्मी भी यहां अपनी गाड़ी नहीं खड़ा कर सकते. ढक्कन उठाकर नाला की सफाई भी मशीन से होनी है. ऐसी स्थिति में नाला सफाई का कार्य कराने वाले संवेदक भी टालमटोल ही करते दिख रहे हैं. इस संबंध में जब कार्यपालक अभियंता से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि फोर्सिंग वाली मशीन मंगाई गई है. आने पर ही यह कार्य संभव हो सकेगा. बहरहाल, लोगों के सामने नारकीय व्यवस्था को झेलने के अलावे कोई रास्ता नहीं बचा है.

रोहित ओझा


No comments