Header Ads

बच्चों को पढ़ाना छोड़ गुरुजी चला रहे थे दुकान, प्रशासन ने लिया एक्शन, किया लाइसेंस रद्द ..


कैमूर टॉप न्यूज़, भभुआ : जन वितरण प्रणाली के दुकानदारों पर अक्सर खाद्यान्न का लाभ तो कभी राशन नहीं देने का आरोप लगता रहता है. ऐसी ही शिकायतें जिला आपूर्ति विभाग, जिलाधिकारी, अनुमंडल पदाधिकारी, और प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी के समक्ष आ रही हैं. जिसके बाद विभाग के निर्देश पर लगातार छापेमारी भी की जा रही है. छापेमारी के क्रम में दुकानदारों पर लगे आरोप का जांच करते हुए कार्रवाई भी की जा रही है. 

इसी क्रम में बीते दिनों अधौरा प्रखंड के चैनपुरा पंचायत के लोहरा गांव के पीडीएस दुकानदार रविकांत रंजन के खिलाफ उनके गांव की ही एक महिला संगीता कुमारी ने विभाग को आवेदन देकर उनकी शिकायत की. शिकायत के माध्यम से उसने आरोप लगाया कि पीडीएस दुकानदार सरकारी लाभ दो तरफ से ले रहे है. वो खुद एक कॉलेज में पढ़ाते है. इसको लेकर विभाग की ओर से पीडीएस दुकानदार रविकांत रंजन से स्पष्टीकरण की मांग की गई थी. जिसमें पीडीएस दुकानदार ने कहा कि वो पीडीएस दुकान का लाइसेंस लेने से पूर्व वह शिक्षक थे. लेकिन जबसे पीडीएस की दुकान का लाइसेंस मिला है तब से उन्होंने अध्ययन कराने का कार्य छोड़ दिया है. शिकायत के आलोक में विभाग ने गोपनीय रूप से सभी कॉलेजों के कार्यरत कर्मियों की सूची खंगाली गई. जिसमें उनका नाम भभुआ नगर के शहीद संजय सिंह महिला महाविद्यालय में पाया गया. उक्त व्यक्ति गणित विषय के शिक्षक है. जिनको हर माह का मानदेय 7500 रुपये मिलता है. ऐसे में उक्त व्यक्ति द्वारा दो तरफ से सरकारी लाभ ले रहे है. इसी को लेकर उनकी पीडीएस दुकान का लाइसेंस एडीएम जन्मेजय शुक्ला ने रद्द कर दिया इस कार्रवाई के पश्चात चर्चाओं का बाजार गर्म है. वहीं, दूसरी तरफ जनवितरण प्रणाली दुकानदारों के बीच भी हड़कंप मचा हुआ है.

- रोहित ओझा


No comments